कर्जो काळो नाग हे

जाता-जाता के गया , बूडा-ठाडा लोग |
कर्जो काळो नाग हे , लख उपजावे रोग ||
लख उपजावे रोग , मूंगी ईंकी दवाई |
आंसू केता जाय , लोग हूणे न लुगाई ||
के 'वाणी' कविराज , मले मूंडा मचकाता|
छीप-छिप काढे दांत , भायला जाता-जाता ||

[24112007(015).jpg]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP