सलीका जीने का


इत्तफाक से
जीते जी
मिल जाए
किसी को
सलीका जीने का

फिर
एक लम्हा ही बहुत है
इस जहान में
उसके जीने का

2 टिप्‍पणियां:

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP