जिन्दगी


अगर वे
महज
श्वांस लेने को ही
जिन्दगी समझते हैं
तो जाओ
उन्हें कहदो
कि
बेशक
हम जी रहे हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP