तार

आज कल
किसी से कोई काम करवाना हो
कई दिनों तक वह केवल आप की बात सुनता है
कई महीनो तक केवल विचार करता है
फिर
कुछ मिनटों का काम
कुछ महीनों में निपटा देता है

यही कार्य प्रणाली
कई ऑफिसरों
कर्मचरियों के घट- घट में
ईश्वर की तरह विद्यमान

मसलन
आपने किसी को मृत्यु का तार दिया
वह बाहरवे दिन तो मिल ही जाता
बाइ चान्स लेट हो गया
मृतक की
छह मासी या बारह मासी तक तो मिल ही जायेगा

कुछ समझदार दर एवम दूरदर्शी व्यक्ति तो
सीरियस होते ही आपने परिजनों को अपने आत्मीय जनों को
सभी ईष्ट मित्रो को तार दे देते हैं

इससे बहुत बड़ा फायदा यह होता हे की
तार धोनी की तरह ही कितने ही रन बनाए
फिर भी बिफोर टाइम पहुँच जाता है
अर्थात् बहुत सीरियस का तार कभी कभी मृत्यु से पहले मिल जाता है

और आत्म जन पीटी ऊषा की तरह दोडे चले आते है
और अंतिम संस्कार में सम्मलित हो जाते है
वे चन्दन की लकड़ी तो देते हे
किन्तु कर्ण केश फिर भी रह जाते
क्यूँ की तब तक नई चला गया होता
नई को फिर अर्जेंट तार दिया जाता है
देर से आने वाले सभी लेट कमर्स के
कर्ण केश लेलो भाई
यह तार तो ग्यारवे दिन ही मिल जाता
क्यूँ की
लोकल तार हैं |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP