आज का आदमी


आज का आदमी
अपनी गरीबी के कारण
बहुत कम
और
पडोसियों की तरक्की से

बहुत
ज्यादा दुखी है

अमृत 'वाणी'

4 टिप्‍पणियां:

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP