सब जानते


सब जानते
तू
भी कभी
मजबूत पहाड़ था ,
आज मिटता-मिटता हो गया
छोटा सा कंकर I
मगर
तनिक भी चिंता मत कर
केवल दो बातें ध्यान रखा कर
पहली बात
मौके
की तलाश में
तुझे रात-दिन फिरना है
दूसरी बात
तुझे
कब कहाँ और किसकी आँख में
कैसे गिरना है I



अमृत 'वाणी '
सेंती चित्तौड़गढ़

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत शानदार! अभूतपूर्व तर्क... :P

    उत्तर देंहटाएं
  2. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी कविता से प्रारंभ । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चिट्टा के इस असीम संसार में आपका स्वागत है...

    आप लिखते रहे और अच्छा लिखते रहें.

    मेरी शुभकामनायें हैं आपके साथ.

    उत्तर देंहटाएं

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP